Uttar Pradesh : शख्स ने 15 बच्चों-महिलाओं को बनाया बंधक, ATS कमांडो रवाना

0
775
farrukhabad children hostages
farrukhabad children hostages

उत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद में एक घर में 15 बच्चों और कुछ महिलाओं को बंधक बनाया गया है. बताया जा रहा है कि नशे में धुत शख्स ने बच्चों और महिलाओं को बंधक बनाया है. बच्चों को छुड़ाने गए ग्रामीणों को उसने धमकाया, जिसके बाद ग्रामीणों ने पुलिस को सूचना दी. पुलिस बच्चों को छुड़ाने में नाकाम रही. बच्चों को छुड़ाने के लिए एटीएस का कमांडो दस्ता फर्रुखाबाद के लिए रवाना हो गया है. शख्स घर के अंदर से रुक-रुककर फायरिंग भी कर रहा है. बताया जा रहा है कि उसने बर्थडे पार्टी के नाम बच्चों को घर पर बुलाया था.

मासूमों को बंधक बनाए शातिर अपराधी ने अपने ही गांव के एक व्यक्ति को गोली मार दी. उसे सीएचसी भेजा गया है. कोतवाली क्षेत्र के गांव करसिया निवासी शातिर सुभाष गौतम पुत्र जगदीश गौतम के मासूमों को बंधक बना लेने की खबर जंगल में आग की तरह फैल गई. जिसके बाद एसपी और एएसपी सहित भारी पुलिस फोर्स मौके पर आ गई और उसके घर को चारों तरफ से घेर लिया.

इसके बाद आरोपी घर के भीतर से विधायक और एसपी को अपने गेट के बाहर बुलाने का दबाव बनाने लगा. उसी दौरान ग्रामीण बालू पुत्र सतीश चंद्र दुबे ने उसे गेट के पास से समझाने का प्रयास किया तो उसने तमंचे से उस पर गोली चला दी. गोली उसके पैर में लगी. इससे वह गंभीर रूप से जख्मी हो गया. उसे सीएचसी भेजा गया है. गांव में दहशत का माहौल है.

घटनास्थल पर कमांडो कार्रवाई शुरू नहीं हुई है क्योंकि अपराधी ने कई बच्चों को बंधक बनाया हुआ है. इस वक्त वहां अंधेरा है, पुलिस ने चारों ओर से घर को घेर रखा है. बंधक बनाने वाला शख्स पहले से अपराधी रहा है और उसके खिलाफ मामले भी दर्ज हैं. कहा जा रहा है कि वह कुछ दिन पहले जेल गया था, इसलिए वह गुस्से में है और इसका बदला लेने की कोशिश में है. बंधक बनाने की कार्रवाई इसी का नतीजा बताया जा रहा है. बर्थडे पर जुटे बच्चों को उसने बंधक बना कर लोगों पर दबाव बनाने की कोशिश कर रहा है.

इस मामले में प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि युवक ने 12 से 20 बच्चों को बंधक बनाया हुआ है. कमरे के अंदर से फायरिंग कर रहा है. फायरिंग में दो पुलिसकर्मी घायल हुए हैं. एनएसजी को भी सूचना दी गई है. बंधक बनाने वाला सजायाफ्ता मुलजिम है. बंधक बनाने वाले शख्स ने एक देसी बम भी बाहर फेंका है. एटीएस मौके पर पहुंच गई है. कमांडो टीम को मौके पर भेजा गया है, जरूरत पड़ी तो एनएएसजी को भी बुलाएंगे और सभी बच्चों को सुरक्षित निकालेंगे.