व्यापारी ने नहीं ली फसल तो किसान ने की आत्महत्या, सदमे में भाई की भी हार्ट अटैक से मौत.

0
385

महाराष्ट्र के अमरावती में किसान ने आत्महत्या की है, जबकि सदमे में उसके भाई की भी मौत हो गई. परिवार का आरोप है कि एक व्यापारी ने फसल लेने से इनकार किया था, जिससे काफी घाटा हुआ.

कृषि कानूनों के खिलाफ जारी आंदोलन के बीच महाराष्ट्र के अमरावती से दिल दुखाने वाली खबर सामने आई है. यहां संतरा उत्पादक किसान परिवार के दो सदस्यों की मौत हो गई. पहले बड़े भाई अशोक भूयार ने आत्महत्या की और जब अंतिम संस्कार से छोटा भाई वापस आ रहा था तब उसे दिल का दौरा पड़ गया. 

आत्महत्या से पहले अशोक भूयार ने राज्य सरकार में मंत्री बच्चू कडू को एक चिट्ठी भी लिखी थी, जिसमें मदद की गुहार लगाई गई थी. बच्चू कडू महाराष्ट्र सरकार में शिक्षा राज्य मंत्री हैं, जिनकी गिनती क्षेत्र के बड़े किसान नेता के तौर पर होती है. बीते दिनों बच्चू कडू किसान आंदोलन में हिस्सा लेने दिल्ली भी आए थे.

चिट्ठी में लिखा है कि संतरे की बोली लगाने वाले व्यापारी ने ऐन वक्त पर सामान लेने से इनकार कर दिया. जब किसान ने सवाल किया तो उसे पहले शराब पिलाई और फिर जमकर पिटाई की. 



किसान अशोक भूयार ने इस मामले की शिकायत की, लेकिन बाद में आत्महत्या कर ली. हालांकि, इस बीच मंत्री के नाम चिट्ठी भी लिखी. इस आत्महत्या के बाद गांव वालों ने और उनके परिजनों ने थाने में खूब हंगामा किया. थानेदार और बीट जमादार पर कार्रवाई की मांग की है. 

इससे पहले भी महाराष्ट्र समेत देश के अन्य इलाकों से इस प्रकार के मामले सामने आए हैं. जहां किसान ने फसल में हुए नुकसान के बाद इस तरह का कदम उठाया है. 

ये घटना तब हुई है जब दिल्ली की सड़कों पर हजारों किसान नए कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं. महाराष्ट्र के भी कई जिलों से किसान संगठन इस विरोध प्रदर्शन में शामिल होने दिल्ली पहुंचे हैं.

ALSO, WATCH-