पंजाब सहित 5 राज्यों में विधानसभा चुनाव के तारीखों का ऐलान, दागी प्रत्याशियों की देनी होगी जानकारी

0
399

पंजाब में 14 फरवरी को पड़ेगी वोट

सोशल मीडिया पोस्टों पर कड़ी नजर रहेगी। हेट स्पीच को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा-चुनाव आयोग

चुनाव आयोग आज शनिवार को 5 राज्यों में विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर रहा है. इनमें उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, गोवा और मणिपुर शामिल हैं. इस बार 4 दिन की देरी से यानी 8 जनवरी को चुनावी तारीखों की घोषणा की जा रही है.

चुनाव आयोग बोला- राजनीतिक दलों की पदयात्रा, रोड शो पर रोक, ज्यादा से ज्यादा वर्चुअल प्रचार पर होगा जोर

राजनीतिक दल कोई पदयात्रा, रोडशो, साइकल, बाइक रैली 15 जनवरी 2022 तक नहीं कर सकेंगे और इसके बाद चुनाव आयोग कोविड की स्थिति को देखते हुए आगे का फैसला लेगा- चुनाव आयोग

कोरोना संकट के बीच चुनाव आयोग आज शनिवार को 5 राज्यों में विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर रहा है. इनमें उत्तर प्रदेश , पंजाब , उत्तराखंड , गोवा और मणिपुर शामिल हैं. 2017 में आयोग ने 4 जनवरी को विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान किया था लेकिन इस बार 4 दिन की देरी से यानी 8 जनवरी को वोटिंग की नई तारीख घोषित की जा रही है. कहा जा रहा है कि आयोग उत्तर प्रदेश में 6 से 8 चरणों में मतदान करा सकता है. पिछली बार यूपी में 7 चरणों में मतदान हुए थे. 2017 के चुनाव में इन सभी 5 राज्यों में मतों की गिनती 11 मार्च को कराई गई थी.

आयोग ने कहा कि दागी प्रत्याशियों कि पृष्ठभूमि राजनीतिक दलों को अपनी वेबसाइट में बताना है और उनके लंबित मामले और उनको चुनने का कारण भी बताना है. इसने कहा कि पारदर्शिता के लिए हमने केंद्रीय 900 ऑब्जर्वर भी नियुक्त किए हैं. हमने प्रत्याशियों का खर्च हाल ही में बढ़ाया है. इससे उन्हें डिजिटल मोड का प्रयोग करने मैं भी मदद मिलेगी.

चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने कहा कि पोस्टल बैलेट के अलावा दिव्यांगों के लिए पोलिंग स्टेशन पर व्यवस्थाएं की गई हैं. प्रत्याशियों को ज्यादा से ज्यादा ऑनलाइन व्यवस्था का इस्तेमाल करना है.

चुनाव आयोग ने कहा कि महिला वोटर की भागीदारी बढ़ी है. कोरोना नियमों के तहत चुनाव कराए जाएंगे. हर बूथ पर 1250 मतदाता होंगे. 80 साल से अधिक उम्र के लोगों, कोविड मरीजों और दिव्यांगों को पोस्टल बैलेट की सुविधा दी जाएगी.

चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा ने कहा कि पोलिंग स्टेशन के विजिट का निर्देश सभी सीईओ को तैयारी के लिए दिया गया. साथ ही कोरोना सुविधा सुनिश्चित कराने के लिए भी कहा गया है. उन्होंने कहा कि दो लाख 15 हजार 368 से अधिक बूथ होंगे. पोलिंग स्टेशन बढ़ाकर हरेक स्टेशन पर मतदाता कि संख्या को मैनेज किया जाएगा. पोलिंग स्टेशन की संख्या में 16 फीसदी का इजाफा किया गया है.

चुनाव आयुक्त ने कहा कि बढ़ते ओमिक्रॉन वेरिएंट के खतरे को देखते हुए स्वास्थ्य सचिव, विशेषज्ञों और सरकार के साथ कई बैठकें की गई हैं. चुनाव में महिलाओं की भागीदारी को बढ़ाना है. यूपी, गोवा समेत अन्य राज्यों में इसे बढ़ाना है. पांच राज्यों में कुल 18.34 करोड़ वोटर हैं.

मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि बिना किसी बाधा के चुनाव, लोगों को मतदान का अधिकार सुनिश्चित करना और कोरोना के बीच लोगों को बचाव करते हुए चुनाव कराना. आयोग के सामने ये तीन चुनौतियां हैं.

चुनाव आयोग ने कहा कि कोरोना के बीच चुनाव कराना चुनौतीपूर्ण होने वाला है. यूपी, उत्तराखंड, पंजाब, गोवा और मणिपुर में चुनाव होने वाले हैं.

चुनाव आयोग पांच राज्यों के चुनाव में बड़ी राजनीतिक रैलियों पर रोक लगा सकता है. रैलियों के लिए संख्या तय होने के आसार भी हैं. चुनाव आयोग डोर टू डोर कैंपेन पर सख्ती कर सकता है.