मै ज़िंदा हूँ – नेशनल रेसलर निशा दहिया की मौत की खबर के बाद आया वीडियो

0
284

मृतक निशा दहिया और रेसलर निशा दहिया दोनों अलग शख्स – SP सोनीपत राहुल शर्मा

पहले खबर आई थी कि निशा दहिया की अज्ञात बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी. लेकिन निशा ने वीडियो जारी कर सच बताया है.

हरियाणा के सोनीपत में नेशनल लेवल की कुश्ती प्लेयर निशा दहिया सही-सलामत हैं. उनकी हत्या नहीं हुई है. जिसकी हत्या हुई वह भी निशा दहिया ही हैं लेकिन PM ने जिसको बधाई दी थी ये निशा वो नहीं हैं. यूनिवर्सिटी लेवल पर मेडल जीतने वाली निशा दहिया हलालपुर गांव की रेसलर है. पहले खबर आई थी कि निशा दहिया, उनके भाई और मां को अज्ञात बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी. लेकिन बाद में नेशनल लेवल कुश्ती प्लेयर निशा ने वीडियो जारी कर बताया कि वह सही-सलामत हैं. वीडियो में निशा ने कहा, मैं नेशनल खेलने के लिए गोंडा में हूं. मैं ठीक हूं. यह न्यूज फेक है (मौत की खबर). मैं एकदम सही-सलामत हूं. इस वीडियो को रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया ने जारी किया है.

गौरतलब है कि पीएम ने सुबह ही निशा को बधाई दी थी. बता दें कि 65 किलो वर्ग में निशा ने सीनियर अंडर 23 वर्ल्ड रेसलिंग चैम्पियनशिप 2021 में कांस्य पदक जीता था. इसके बाद पीएम ने निशा समेत अन्य खिलाड़ियों को बधाई दी थी

निशा दहिया ने साल 2014 में श्रीनगर में कैडेट नेशनल चैम्पियनशिप में गोल्ड मेडल जीता था. इसके बाद उन्होंने अगले साल भी यही कारनामा दोहराया. साल 2014 में उन्होंने पहला अंतरराष्ट्रीय पदक जीता. एशियन चैम्पियनशिप में उन्होंने 49किलो वर्ग में कांस्य पदक जीता था. इसके बाद अगले साल उन्होंने 60 किलो वर्ग में सिल्वर मेडल जीता. साल 2015 में नेशनल चैम्पियनशिप में उन्होंने कांस्य पदक अपने नाम किया.

कांस्य पदक जीतने के बाद मेल्डोनियम लेने के कारण वह पॉजिटिव पाई गईं. यह एक ड्रग होता है, जिसे वर्ल्ड एंटी डोपिंग एजेंसी ने साल 2016 में बैन कर दिया था. इसके बाद उन पर चार साल का प्रतिबंध लगा दिया गया. मेलोडियम वही ड्रग है, जिसके कारण टेनिस सुपरस्टार मारिया शारापोवा के लिए मुसीबतें बढ़ गई थीं.