मदद की उम्मीद , इलाज न होने के कारण दो बेटियों का बाप ईश्वर से माँग रहा है मौत-देखे वीडियो

0
311

हर बच्चो का सुपना होता है कि उस का बाप अपनी कमाई के साथ उसको पड़ाव लिखा कर उसको इस काबिल बनाऐ कि उसको ज़िंदगी में कभी किसी के आगे हाथ न फैलाना पड़े अगर कमाई करने वाला ही किसी ओर के सहारे दिन काट रहा हो तो उन बच्चों का तो फिर ईश्वर ही रक्षक है। ऐसा ही कुछ देखने को मिला है ज़िला फ़िरोज़पुर के गाँव जोगे वाला में जहाँ दो बेटियों का बाप और एक दिमाग़ से सीधी साधी औरत का पति आज भाई के दरवाज़े पर ज़िंदगी और मौत की लड़ाई लड़ रहा है। जिसकी मदद के लिए न तो कोई समाज सेवीं संस्था आगे आ रही है और न ही बड़े बड़े दावे करने वाली सरकारें आपको बता दे कि मौको की सरकारें वोट के टाईम ऐसे गरीबों की बाज़ू पकड़ने के बड़े बड़े दावे करती हैं। परन्तु जब उन का भी मतलब निकल जाता है। वह भी पक्ष बदल लेती हैं।


फ़िरोज़पुर के गाँव जोगे वाला के रहने वाले कुलविन्दर सिंह जो घर में गरीबी होने के बावजूद भी अपने परिवार के साथ साथ चारपाई पर पड़े अपने भाई लाल सिंह का परिवार भी पाल रहा है। जानकारी देते लाल सिंह और उसके भाई और भाबी ने बताया कि पहले तो लाल सिंह पोलियो के साथ कुदरत की मार बरदाश्त कर रहा था और थोड़ी कमाई करके अपना परिवार पाल रहा था परन्तु अब उस पर कुदरत की ऐसी मार पड़ी है। कि वह चारपाई के लायक ही रह गया है। उन्होंने बताया की लाल सिंह का फेफड़ा फटा हुआ है। और उसके घर में कमाने वाला कोई नहीं है। एक पत्नी है वह भी दिमाग़ी तौर पर सीधी है। दो उस की बेटियाँ हैं घर में कमाई न आने के कारण घर के हलात बत्त से बत्तर बनते जा रहे है। कई बार तो उस की छोटी छोटी बच्चियो को भूखे सोना पड़ जाता था क्यूंकि लाल सिंह की पत्नी सीधी है। और लाल सिंह ख़ुद चारपाई से उठ नहीं पाता था जिन पर तरस करते अब उस की देख भाल वह ख़ुद कर रहे हैं। उन्होंने कहा की इतनी महगायी में आदमी को अपना परिवार पालना मुश्किल हुआ पड़ा है। परन्तु वह गरीबी होने के बावजूद भी दो परिवार पाल रहे हैं। जो बहुत कठिन है। उन्होंने कहा की उन्होंने लाल सिंह का इलाज कराने की भी कोशिश की थी परन्तु डाक्टर उनके पास से डेढ़ लाख रुपए माँग रहे हैं। जो उन की पहुँच से कोसों दूर हैं। उधर लाल सिंह का कहना है। कि जा तो ईश्वर उसको ठीक कर दे या फिर उसको मौत दे दे क्योंकि जिन हलातो में से वह गुज़र रहा है। वह हलात उससे देखे नहीं जाते उन्होंने सरकार और समाज सेवीं संस्थायों से मदद की गुहार लगाई है। जिससे उस का इलाज हो सके और वह अपनी, छोटी छोटी बेटियो को पाल पोस सके। उसने कहा कि अगर उसको कुछ हो गया तो पत्नी दिमाग़ से सीधी होने के कारण उस की बेटियाँ रूल जाएगी।