UNSC में बोला भारत-यूक्रेन में फंसे 20 हजार से ज्यादा भारतीय छात्र, वापसी के लिए सरकार कर रही कोशिश

0
182

भारतीय छात्रों समेत 182 यात्रियों वाली एक फ्लाईट नई दिल्ली एयरपोर्ट पर आज, 24 फरवरी को पहुंची. इन यात्रियों को यूक्रेन इंटरनेशनल एयरलाइंस द्वारा दिल्ली लाया गया.

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन  के यूक्रेन में ‘मिलिट्री ऑपरेशन’ की घोषणा के बाद यूक्रेन की राजधानी कीव में एक धमाका सुना गया है. वहीं रूस द्वारा जंग के ऐलान के बाद यूक्रेन के पूर्वी बंदरगाह शहर मारियुपोल में शक्तिशाली विस्फोटों की आवाज सुनी गई.

इसी बीच भारत के स्थायी प्रतिनिधि टी एस तिरुमूर्ति ने संयुक्त राष्ट सुरक्षा परिषद की बैठक में कहा, भारत सरकार की तरफ से यूक्रेन में फंसे 20 हजार से अधिक भारतीय छात्रों को निकालने की प्रयास पहले से ही किए जा रहे हैं. तिरुमूर्ति ने यूएनएससी  में कहा, ‘यूक्रेन में 20,000 से अधिक भारतीय छात्र, हम छात्रों सहित सभी भारतीय नागरिकों की वापसी की सुविधा प्रदान कर रहे हैं, जैसा कि हमें आवश्यकता हो सकती है.

दूसरी तरफ मिली जानकारी के मुताबिक, भारतीय छात्रों समेत 182 यात्रियों वाली एक फ्लाईट नई दिल्ली एयरपोर्ट पर आज, 24 फरवरी को पहुंची. इन यात्रियों को यूक्रेन इंटरनेशनल एयरलाइंस द्वारा दिल्ली लाया गया. आज गुरुवार को 182 भारतीय नागरिकों को विशेष विमान के जरिए नई दिल्ली पहुंचाया गया. अमुमान है कि सैकड़ों की संख्या में भारतीय अब भी वहां पर फंसे हुए हैं.भारत में यूक्रेन इंटरनेशनल एयरलाइंस के एक अधिकारी ने बताया कि यूक्रेन इंटरनेशनल एयरलाइंस (यूआईए) की एक विशेष उड़ान राजधानी कीव से दिल्ली हवाई अड्डे पर आज सुबह 7:45 बजे छात्रों सहित 182 भारतीय नागरिकों के साथ उतरी.

भारत से यूक्रेन में जाकर पढ़ाई करने वाले छात्रों में अधिकतम संख्या मेडिसीन के छात्रों की है, जो कि दिल्ली से लेकर गुजरात राज्यों से आते हैं. ऐसे में जो छात्र भारत लौट आए हैं, उन्होंने स्वदेश वापसी पर खुशी जाहिर की. समाचार एजेंसी पीटीआइ के अपडेट के अनुसार, वापस लौटे छात्रों ने कहा कि उन्होंने कीव स्थित भारतीय दूतावास द्वारा जारी एडवाइजरी का पालन किया

बता दें कि यूक्रेन की राजधानी कीव में भारतीय दूतावास द्वारा 20 फरवरी 2022 को एडवाइजरी जारी की गयी थी कि सभी भारतीय छात्र अस्थायी तौर पर यूक्रेन छोड़ दें. इसके साथ ही, दूतावास ने छात्रों से से अपील की थी कि वे अपने सम्बन्धित कॉन्ट्रैक्टर से चार्टर फ्लाईट के लिए सम्पर्क करें और दूतावास के सोशल मीडिया चैनल और वेबसाइट पर जारी होने वाले अपडेट पर नजर रखें.