जालंधर में बच्चो का धरना प्रदर्शन, आम आदमी पार्टी के विधायक के शह पर तुड़वा दी गयी बच्चो की स्पोर्ट्स अकादमी

0
145

दोपहर से लगे धरने पर नहीं पंहुचा कोई अधिकारी , या खुद विधायक
शिक्षा,सेहत और खेल को प्रमोट करने के आम आदमी पार्टी के दावों की खुली पोल
जोशी अस्पताल की अवैध बन रही बिल्डिंग , स्कूलों के किताबो के अवैध खेल , शहर में अवैध कब्जो पर और निगम की ब्रश्ताक्री पर कोई कार्यवाही नहीं , पर बच्चो की खेल अकादमी पर बिना नोटिस अचानक उसको तोडना ,खड़ा करता है बड़ा सवाल ? विधायक और पंजाब सरकार दे जवाब

ईशान जुनेजा
अमन नाहर


जालंधर मुख्य मार्ग पर ये जो बच्चे आप देख रहे है, ये देश का भविष्य है और इन बच्चो के लिए कई नेताओं ने चुनाव जीतने के लिए आजतक कई वादे किये और कई घोषणाए भी की | सरकार बनी , नेता आए और गए पर इन बच्चो को हमेशा ही सड़क पर धरना लगाना पड़ता है और वो भी इन्साफ के लिए , अपने उज्जवल भविष्य के लिए | अब पंजाब में आम आदमी पार्टी की सरकार है और जालंधर सेंट्रल से रमन अरोड़ा विधायक है , विधायक तो नए नए बने है पर उनका स्वागत आजकल हर जगह किया जा रहा है , शिक्षा संस्थानों में भी वो एक चीफ गेस्ट बनकर दिखाई दे जाते है और अपनी तारीफों के पुल वो अपने फेसबुक पेज पर बनाना नहीं भूलते |

दरहसल , जालंधर सेंट्रल के हलके में पड़ती एक स्पोर्ट्स अकादमी ,जिसका की शिलायांश कांग्रेस के पूर्व विधायक राजिंदर बेरी ने किया था और कारपोरेशन की ज़मीन पर बच्चो के लिए अकादमी बनाने की स्वीकृति और ग्रांट भी दी थी , उसको आज किसी की कंप्लेंट के आधार पर ही गिरा दिया गया | बच्चो और उनके टीचर्स और उनके अभिभावकों का आरोप है की न तो इसके लिए उन्हें कोई नोटिस दिया गया , न ही कोई पूछताछ की गयी और सीधा ही उनकी बन रही अकादमी को तोड़ दिया गया |

रामा मंडी फ्लाईओवर के नीचे आज बच्चो सहित उनके अभिभावकों और टीचर्स ने पंजाब सरकार , विधायक रमन अरोड़ा और पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान के खिलाफ प्रदर्शन किया और हाय हाय के नारे लगाए | उन्होंने कहा की सरकार जहाँ उच्च शिक्षा और अच्छी सेहत को बढ़ावा देने के लिए बड़े बड़े दावे करती है वही वो आज बच्चो के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रही है |

अब देखना ये होगा की पंजाब सरकार और विधायक रमन अरोड़ा जो की अभी तक नाजायज़ कब्ज़ों , नाजायज़ कॉलोनियां , नशे के अड्डे , जुए और सट्टेबाज़ी के धंधे पर , स्कूलों और अस्पतालों की मनमानी पर लगाम लगाने और कार्यवाही करने में नाकाम रहे है , क्या वो इन बच्चो को इन्साफ दिला पाएंगे ? क्यूंकि मंगलवार दोपहर से जो बच्चे इतनी गर्मी में अपने हक़ के लिए बैठे है , वहाँ विधायक क्या , न कोई अफसर और न ही कोई पुलिस अफसर , और न ही कोई जागरूक पत्रकार वहाँ इनकी सुद्ध लेने पहुँचा |